• Latest Post

    डेबिट और क्रेडिट कार्ड को बनाएं फ्रॉड प्रूफ, रिस्‍क कवर के लिए लें यह प्‍लान





    अब लोगों की जेब में नकदी की जगह प्लास्टिक मनी यानी डेबिट और क्रेडिट कार्ड लेने लगे हैं। शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसके पास एक डेबिट और एक क्रेडिट कार्ड न हो। एक तरफ जहां यह नकद पैसे साथ रखने के जोखिम को कम करता है वहीं दूसरी तरफ इस बात का भी अंदेशा भी रहता है कि अगर किसी जेबकतरे ने पर्स पर हाथ साफ कर दिया तो क्या होगा? हो सकता है जब तक आपको आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड गायब होने की जानकारी मिले तब तक उससे जबरदस्त खरीदारी कर आपके खाते में सेंध लगा दिया गया हो। जिन लोगों के पास चार-पांच क्रेडिट कार्ड होते हैं उनके लिए कार्ड की चोरी होने के बाद नुकसान की संभावना अधिक होती है। आम तौर पर लोग यह जानकारी मिलते ही कि उनका पर्स या कार्ड चुरा लिया गया है, उन बैंकों को फोन कर अपना कार्ड ब्लॉक करवाते हैं जिसने कार्ड जारी किया है। यह काम उतना आसान भी नहीं है क्योंकि सभी बैंकों के नंबर अलग-अलग होते हैं और जरूरी नहीं कि सभी बैंकों के नंबर व्यक्ति के पास हों ही। विभिन्न कार्डों की सुरक्षा के लिए ब्रिटेन की एक कंपनी सीपीपी ग्रुप पीएलसी भारत सहित विभिन्न देशों में कार्ड प्रोटेक्शन प्लान की सुविधा उपलब्ध करा रही है।


    क्या है कार्ड प्रोटेक्शन प्लान




    कार्ड प्रोटेक्शन सुविधा का लाभ विश्व में कहीं भी उठाया जा सकता है। जहां कहीं भी आपके कार्ड की चोरी होती है आप वहां के स्थानीय या अंतरराष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर कार्ड चोरी होन की जानकारी सीपीपी को देते हैं और सीपीपी तत्काल आपके सभी डेबिट और क्रेडिट कार्डों को ब्लॉक करने की सूचना संबंधित बैंकों और संस्थानों को देता है। सूचना देने से पहले और उसके बाद अगर आपके कार्ड का कहीं इस्तेमाल किया जाता है तो सीपीपी उसके लिए भी कवर उपलब्ध कराता है।
    सीपीपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कार्ड प्रोटेक्शन प्लान न केवल डेबिट और क्रेडिट कार्ड के खो जाने की दशा में मदद करता है बल्कि यह यात्रा और होटल बिल के भुगतान में भी मदद करता है। हालांकि यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपने किस तरह का प्रोडक्ट कवरेज चुना है।
    अगर आपने डेबिट और क्रेडिट कार्ड के अलावा अपने पासपोर्ट और ड्राइविंग लाइसेंस आदि को भी सीपीपी के साथ पंजीकृत कराया है तो इसके गुम जाने की दशा में सीपीपी आपकी मदद करेगा।


    अगर विदेश में कार्ड सहित पासपोर्ट और ट्रैवल टिकट गुम हुआ तो




    अगर आप विदेश की यात्रा कर रहे हैं और वहीं कोई आपके पर्स के साथ-साथ आपके सामान पर हाथ साफ कर डालता है तो आप क्या करेंगे? उसमें न केवल आपके डेबिट और क्रेडिट कार्ड होंगे बल्कि पासपोर्ट और ट्रैवल टिकट आदि भी शामिल हो सकते हैं। जिसके गुम होने की स्थिति में आप मुश्किल में फंस सकते हैं। ऐसी परिस्थिति में उस होटल के बिल का भुगतान करना भी असंभव होगा जहां आप ठहरे होते हैं।
    अगर आपने सीपीपी के साथ कार्ड के साथ-साथ पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस आदि का पंजीकरण कराया हुआ है तो चिंतित मत होइए। सीपीपी के अधिकारी के मुताबिक जब आपको पता चलता है कि आपके सामान गुम हो गए हैं तो आप तत्काल हेल्पलाइन नंबर 60004000 (शहर का एसटीडी कोड जोडऩा न भूलें) पर कॉल करें। सीपीपी के प्रशिक्षित एजेंट पूरी प्रक्रिया में मदद करेंगे। सबसे पहले गुम हुए कार्डों को रद्द करवाया जाता है। उसके बाद रीप्लेसमेंट पासपोर्ट पाने में आपकी मदद की जाती है। इसके अलावा सीपीपी स्वदेश लौटने के लिए ट्रैवल टिकट भी दोबारा जारी करवाने में सहायता उपलब्ध कराता है।

    कितने तरह के हैं प्रोटेक्शन प्लान




    तीन तरह के कार्ड प्रोटेक्शन प्लान उपलब्ध हैं। क्लासिक, प्रीमियम और प्लैटिनम। एकल और संयुक्त कार्डधारकों के लिए इसकी सालाना फीस अलग-अलग है। हालांकि, किसी भी प्लान के तहत पंजीकरण के लिए कार्डों की संख्या सीमित नहीं है। संयुक्त कार्डधारकों का मतलब यहां परिवार के उन कार्डधारकों को शामिल करने से है जिनके रहने का पता समान है। क्लासिक प्लान के तहत व्यक्तिगत सालाना फीस जहां 1,399 रुपये है वहीं संयुक्त कार्डधारक के मामले में इसकी सालाना फीस 1,848 रुपये है। इसके स्कीम के तहत कार्ड चोरी होने की सूचना देने से पहले एक लाख रुपये तक के धोखाधड़ी वाले लेन-देन को कवर किया जाता है और सूचना देने के बाद 15 लाख रुपये तक का कवर उपलब्ध कराया जाता है। इसी तरह प्‍लैटिनम फैमिली प्लान के तहत (सालान शुल्क -2,185 रुपये) तीन लाख रुपए तक की धोखाधड़ी को कवर किया जाता है।
    सीपीपी के अधिकारी ने बताया कि किसी भी प्लान के तहत ऑनलाइन किए जाने वाले धोखाधड़ी वाले लेन-देन को कवर नहीं किया जाता है।




    क्यों चुनें कार्ड प्रोटेक्शन प्लान

    आज के इस जमाने में किसी भी व्यक्ति के पास दो या तीन कार्ड (डेबिट या क्रेडिट) तो होते ही हैं। अगर पर्स चोरी हुआ और सारे कार्ड एक साथ गुम हो गए तो इसके लिए विभिन्न बैंकों को इत्तला करने की जगह आपको सीपीपी के तहत केवल केवल एक नंबर पर कॉल करने की जरूरत होती है।

    धोखाधड़ी से सुरक्षा

    धोखाधड़ी वाले इस्तेमाल के विरूद्ध सीपीपी आपको वैश्विक स्तर पर सुरक्षा उपलब्ध कराता है। धोखाधड़ी वाला सुरक्षा कवर सूचना से पहले और सूचना देने के बाद की अवधि के अलग-अलग होता है।

    कैसे करें क्लेम

    अगर आपको कभी क्लेम करने की जरूरत पड़ी तो आप अपने शहर के एसटीडी कोड के साथ फोन नंबर 60004000 पर कॉल करें और कंपनी आपको क्लेम फॉर्म भेज देगी। फॉर्म के साथ आप जितनी अधिक जानकारियां देंगे क्लेम प्रक्रिया उतनी आसान होगी। सभी क्लेम कार्ड खोने की सूचना के 30 दिनों के भीतर किए जाने चाहिए।





    No comments