• Latest Post

    Penny Stocks क्या है क्या पैनी स्टॉक्स में निवेश करना चाहिए।

    स्टॉक्स Penny Stocks में निवेश करें या नहीं और यह क्यों कुछ निवेशकों की पहली पसंद हैं, आपको इनमें फंसना चाहिए या बच कर रहना चाहिए. पैनी स्टॉक्स Penny Stocks आम तौर पर उन शेयरों को कहा जाता है जो शेयर बाजार में बहुत ही कम कीमतों पर उपलब्ध होते हैं. इनका नाम शायद पैनी स्टॉक्स Penny Stocks इस लिए पड़ा होगा क्योंकि अमेरिका में एक डॉलर से कम कीमत पर उपलब्ध शेयरों को पैनी स्टॉक कहते हैं. भारत में दस रुपये से कम कीमत पर ट्रेड होने वाले शेयरों को पैनी स्टॉक्स Penny Stocks कह सकते हैं. इन्हें हिंदी में चवन्नी शेयर भी कहते हैं.



     अधिक बड़ी टर्नओवर भी नहीं होती है और अधिकतर ये कम्पनियां घाटे में चलती हैं या बहुत ही कम प्रॉफिट पर चलती हैं. ऐसे शेयरों में कंपनी के प्रमोटर या उनके प्रतिनिधि ही अधिकतर ट्रेडिंग में लगे रहते हैं. झूठी या सच्ची खबरें छपवा कर इन शेयरों के दाम बढ़ा दिए जाते हैं. यह शेयर बहुत ही कम वॉल्यूम में ट्रेड होते हैं इसीलिए कह सकते हैं कि इन शेयरों में लिक्विडिटी की समस्या रहती है. कम कीमत के कारण कई बार निवेशक इन में फंस जाता है मगर किसी के कहने पर ऐसे शेयरों में निवेश करना जोखिम से भरा होता है.




    पैनी स्टॉक्स Penny Stocks में निवेश करें या नहीं

    पैनी स्टॉक्स Penny Stocks क्योंकि बहुत कम कीमत पर मिलते हैं तो फिर इन में निवेश करने की इच्छा निवेशकों में रहती है. इनकी कम समय में कीमत बढ़ने की संभावना भी अधिक रहती है. कोई शेयर कम समय में अधिक रिटर्न भी दे सकता है. उदाहरन के लिए कोई शेयर आप दो रुपये में खरीदतें हैं और वह शेयर यदि तीन रुपये का भी हो जाता है तो समझ लीजिये आपका निवेश पचास प्रतिशत बढ़ जाता है. मगर ऐसी ट्रेडिंग में जोखिम बहुत हैं. अकसर कीमत बढ़ने पर ट्रेडर तो मौके पर ऐसे शेयरों से निकल जाते हैं मगर कीमतें फिर वापिस आ जातीं हैं और निवेशक हाथ मलता रह जाते है. कभी कभी पैनी स्टॉक्स Penny Stocks में कोई टर्नअराउंड शेयर भी मिल सकता है यानी ऐसे शेयर जो कि घाटे से लाभ की और जा रहे हैं. यदि वास्तव में आप ऐसे किसी शेयर को पहचान कर निवेश करते हैं तो यह एक अच्छा निवेश भी साबित हो सकता है.




    गयी हो मगर कंपनी के माल की बाज़ार में मांग हो, बड़ी कैपिटल और अच्छी सेल हो तो निवेश करने का जोखिम कम रहता है. कई बार बड़ा लोन लेने के बाद कई कम्पनियां ब्याज के बोझ से घाटे में चली जातीं हैं. कुछ समय बाद लिए गए लोन से अपने उत्पादों का विस्तार करके कंपनी की फिर से प्रॉफिट में आने की संभावना होने लगती है. ऐसी कंपनियों के शेयर को टर्नअराउंड शेयर कह सकते हैं.

    यदि आप नए निवेशक हैं और शेयर बाजार के नए खिलाडी हैं तो पैनी स्टॉक्स Penny Stocks या चवन्नी शेयरों से दूर ही रहें. यदि आप पुराने और जानकार निवेशक हैं तो टर्नअराउंड शेयरों की पहचान करके ही निवेश करें. अपने कुल पोर्टफोलियो का एक छोटा सा हिस्सा ही इनमें लगायें क्योंकि इनमें जोखिम बहुत होता है.



    No comments