Header Ads

  • Latest Post

    कैसे करें IBPS Clerical परीक्षा की तैयारी ?






    कैसे करें IBPS Clerical परीक्षा की तैयारी ?


    कया है IBPS Clerical :


    IBPS Clerical परीक्षा IBPS द्वारा आयोजित की जाती है। IBPS प्रार्थियों को public sector bank में clerk की नौकरी देने हेतु ये परीक्षा आयोजित करता है। इस परीक्षा को पास करने के बाद प्रार्थी 19-20 public sector बैंकों में जा सकता है।

    Elegibility Criteria:


    आयु सीमा(Age Criteria) – 20-28 आयु

    परीक्षा के साधन (Mode of Examination) – सामान्य लिखित परीक्षा और एक साक्षात्कार जो कि सामान्य लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद होता है।

    शैक्षणिक योग्यता (Education Qualification) – किसी भी मान्य विश्वविद्यालय से स्नातक होना।

    Papper pattern:


    IBPS की clerical परीक्षा में सामान्य लिखित परीक्षा 120 मिनटों की होती है, जिसमें निम्नलिखित विषय आते हैं :-





    • Subject                                 Marks
    • Reasoning                         40 marks
    • Numerical Ability            40 marks
    • General Awareness          40 marks
    • English Language            40 marks
    • Computer Knowledge     40 marks

    सभी प्रश्न 1 अंक के होते हैं और यह परीक्षा 2 घंटों की होती है। हर गलत उत्तर पर -0.25 की negative marking की जाती है।

    किस तरह से करें तैयारी (कुछ महत्वपूर्ण बाते): -


    ➤पाठयक्रम को समझे:- चाहे आप पहली बारी ही इस परीक्षा की तैयारी कर रहे हों या फिर आप पहले भी इस परीक्षा में बैठ चुके हों, दोनों ही बातों में यह बहुत जरूरी है कि आपको पाठयक्रम की पूरी समझ हो। तो हम आपको बता दें कि IBPS Clerical का पाठयक्रम पांच विषयों से बनता है। ये विषय है: reasoning , numerical ability , General Awareness , English Language , Computer Knowledge.

    ➤पढने कि आदत बनाये :-एक बार अपने ये ठान लिया है की आपने IBPS clerk की तैयारी करनी है तो आप बहुत सारी किताबे, खबरे और internet में ज्ञान पढऩा है, साथ ही आपको current affairs और सामान्य ज्ञान भी पढऩा है और ये भी जरूरी है कि आप प्रतिदिन किसी English newspapper को पढ़ें।

    ➤खुद को कम्प्यूटर का दोस्त बनाएं:हो सकता है कि आपका कम्प्यूटर ज्ञान बहुत कम हो, परंतु आईबीपीएस को उत्तीर्ण करने के लिए आपको कम्प्यूटर के प्रश्नों का उत्तर लिखना ही पड़ेगा। आपको कम्प्यूटर से जुड़े हर सामान्य ज्ञान को पाना है। इसकी मदद से आप internet में छुपे असीमित ज्ञान को भी पा सकते हैं। तो बहुत जरूरी है कि आप कम्प्यूटर को अपना दोस्त बनाएं।




    ➤समय नियोजन का पूरा उपयोग करें:अगर आप आईबीपीएस में प्रवेश करना चाहते हैं तो आपको अपने हर पल का हिसाब रखना पड़ेगा। आप एक भी पल को व्यर्थ न गवाएं। आईबीपीएस में 200 प्रश्न हैं, जिन्हें 120 मिनटों मेंउत्तर करना है। तो आप ये हिसाब लगा सकते हैं कि आपको हर प्रश्न को उत्तर करने के लिए एक मिनट से भी कम का समय मिलता है। तो घड़ी को अपने पास रख कर आज से ही इस परीक्षा की तैयारी शुरू करें और अभ्यास के लिए आप हर दिन दो घंटों का समय चयनित करके 200 अभ्यास प्रश्नों का उत्तर देने की कोशिश करें। इससे पता लगाया जा सकता है कि आपको प्रश्नों का उत्तर देने में कितना समय लगता है।

    ➤अपनी कमजोरियों का आकंलन करें:आप अपनी कमियों को अभ्यास के द्वारा खोज सकते हैं। इससे आपको पता चलेगा कि किन-किन विषयों में आपको ज्यादा मेहनत करने की जरूरत है। आप उन विषयों को ठोस करने के लिए अपना अभ्यास तेज कर सकते हैं। उन विषयों को ज्यादा समय दे सकते हैं। साथ ही अपनी गति का भी आंकलन कर सकते हैं, जिस गति से आप अपने प्रश्नों का उत्तर कर रहे हैं।

    ➤अभ्यास परीक्षा एवं मॉक टेस्ट का सहारा लें:आपकी तैयारी के लिए सबसे उच्च तरीका ये है कि आप खुद ही अभ्यास प्रश्नों की परीक्षा करें और घड़ी में समय निर्धारित करें। ये आपको हौंसला देगा और निरंतर आगे बढऩे के लिए रास्ता भी।

    ➤आप अपनी विधि और चालों (tricks) का इस्तेमाल करें:आप जानते हैं कि हर प्रश्न का उत्तर देने के लिए एक मिनट से कम का समय है और हर गलत उत्तर पर negative marking है। इसलिए ये जरूरी है कि आप सूझबूझ कर प्रश्नों का उत्तर दें। सभी प्रश्नों का उत्तर करना ज्यादा जरूरी नहीं है। किंतु ये ज्यादा जरूरी है कि आप जितने भी प्रश्नों का उत्तर करें वे सही हो और कम से कम आप 120 प्रश्नों का सही उत्तर करें।
    ➤परीक्षा में अनुमान न लगाएं:हर अलत उत्तर आपको 0.25 negative अंक ले के आएगा इसलिए आप तुकका न लगाए। इसलिए यह जरूरी है कि आप उन्हीं प्रश्नों का उत्तर करें, जिनकी आपको पूर्णता जानकारी हो।

    ➤अपने दिमाग पर बोझ न डाले:शांत रह कर तैयारी करने पर आप खुद को बेहतर तैयार कर सकते हैं। दिमाग पर बोझ डालने से चीजें याद रखना कठिन हो जाता है। अपनी तैयारी के दौरान खुद को जरूरी आराम दें और अपनी सेहत का ध्यान भी रखें। खुद के निरंतर उत्साहित करते रहें आखिर ये एक परीक्षा ही है।

    ➤खुद पर विश्वास :खुद पर विश्वास रखना बहुत जरूरी है कि यह आपको निरंतर उत्साहित करेगा। मेहनत विश्वास और लग्न से अगर आप तैयारी करेंगे तो आप निश्चय ही सफल होकर आएंगे।



    No comments