Header Ads

  • Latest Post

    हिन्दी भाषा के बारे में रोचक तथ्य




    हिन्दी भाषा के बारे में रोचक तथ्य





     राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र गूँगा है। केवल आज ही नही अपनी मातृभाषा को सदा सम्मान दिजिए। हिन्दी किसी पर न तो जबरदस्ती लादी जा रही है और न लादी जाएगी। लेकिन मन में इतना जरूर ठान लिजिए कि हिन्दी का विकास हमारा विकास होगा।

     14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक वोट से यह निर्णय लिया कि ‘हिंदी’ ही भारत की राजभाषा होगी।

     भारत में सबसे अधिक भाषाएं बोली जाती हैं. यहां 10 या 15 भाषाएं नहीं बल्कि पूरी 461 भाषाएं बोली जाती है, पर इनमें से 14 विलुप्त हो गईं.

     भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा हिन्दी है. देश के 77% लोग हिन्दी बोलते और समझते हैं.

     हिंदी भाषा के बारे में एक अच्छी बात यह भी है कि आप किसी शब्द को बिल्कुल ऐसे ही लिखोगे जिस तरह उसे बोलते हो।

     देश में हर पांच में से एक व्यक्ति Internet को हिंदी में चलाना पसंद करता है।

     हिंदी भाषा को अनुच्छेद 343 के अंतर्गत देवनागरी लिपि में 1950 में राष्ट्रभाषा का दर्जा दिया गया।




     हिंदी के बारे में एक रोचक तथ्य यह भी है कि हिंदी मूलत: फारसी भाषा का शब्द है।

     अंग्रेजी की रोमन लिपि में जहां कुल 26 वर्ण हैं, वहीं हिंदी की देवनागरी लिपि में उससे दोगुने 52 वर्ण हैं।

     हिंदी भाषा में कोई ऐसा Article नही है जैसे English में ‘the’ और ‘a’ है।

     हिंदी की पहली कविता प्रख्यात कवि ‘अमीर खुसरो’ ने लिखी थी।

     366,000,000 लोगों के लिए हिंदी ‘मातृभाषा’ है वहीं इस भाषा को कुल 487,000,000 लोग उपयोग करते हैं।

     आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि हिंदी भाषा के इतिहास पर पहले साहित्य की रचना भी ग्रासिन द तैसी, एक फ्रांसीसी लेखक ने की थी।

     1977 में विदेश मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पहली बार संयुक्त राष्ट्र की आम सभा को हिंदी में संबोधित किया।

     हिन्दी को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाले हिंदी अखबार ही है। उन्होंने अंग्रेजी, अरबी और फारसी भाषा के शब्दो को जान-बूझकर अखबारों में ठूंसकर उन्हें प्रचलन में ला दिया।

     ‘नमस्ते’ शब्द हिंदी भाषा में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला शब्द है।

     Google ने कहा है कि ’इंटरनेट पर हिंदी कंटेंट की खपत अब बढ़ना शुरू हो गई है। यह साल-दर-साल English कंटेंट के 19 प्रतिशत ग्रोथ के मुकाबले 94 प्रतिशत बढ़ती जा रही है

     सन् 2000 में हिंदी का पहला Webportal अस्तित्त्व में आया था तभी से इंटरनेट पर हिंदी ने अपनी छाप छोड़नी प्रारंभ कर दी जो अब रफ्तार पकड़ चुकी है।

     हिंदी भारत की उन 7 भाषाओं में से एक भाषा है जिसका इस्तेमाल Web addresses (URLs) बनाने के लिए किया जाता है।

     आज भी United States America के 45 विश्वविद्यालय सहित पूरे World के लगभग 176 विश्वविद्यालयों में हिन्दी की पढ़ाई जारी है।





    No comments