Header Ads

  • Latest Post

    एसिडिटी (Acidity) के कारण, पहचान एवं घरेलु इलाज।







        पेट में गैस, सीने में जलन और अपच की दिक्कत हो तो समझ लीजिए यह एसिडिटी है। एसिडिटी यानि की अम्ल पित्त, जिसमें खाना पचाने वाले रसायन का स्त्राव या तो बहुत ज्यादा होता है या बहुत कम। एसिडिटी को चिकित्सा की भाषा में गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफलक्स डिजीज (Gastroesophageal Reflux Disease) कहते हैं।

      कई बार एसिडिटी के कारण व्यक्ति को सीने में दर्द (Chest Pain) की शिकायत भी हो सकती है। यदि यह तकलीफ बार- बार हो रही हो तो यह गंभीर समस्या बन जाती है। एसिडिटी के कारण कई बार भोजन, भोजन नली से सांस की नली में भी पहुंच जाता है जिससे खांसी या सांस लेने संबंधी (Respiratory) समस्या भी हो सकती है। इतना ही नहीं एसिडिटी की समस्या बढ़ने पर खट्टे पानी के साथ मुंह में खून भी आ सकता है।






     लक्षण


     • खाने को ठीक से न चबाना
     • कभी-कभी छाती में दर्द हो सकता है।
     • खट्टी डकारें आना.
     • खाना या खट्टा पानी (एसिड) मुंह में आ जाना.
     • छाती में जलन होना
     • पेट में गैस बनना
     • मतली और उल्टी

     कारण


     • खान-पान में अनियमितता
     • खाने को ठीक से न चबाना
     • पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना
     • मसालेदार खाना ज्यादा खाना
     • धूम्रपान और शराब का ज्यादा सेवन

     उपचार


     • पानी ज्यादा से ज्यादा से पीएं
     • चाय-कॉफी कम से कम पीएं
     • कोल्डड्रिंक या अन्य आर्टिफिशियल पेय न लें
     • खाना समय से खाएं और खाकर कुछ देर टहलें, तुरंत सोएं नहीं
     • ज्यादा तला-भुना या मसालेदार खाना न खाएं
     • भोजन बनाने में हींग का प्रयोग करें

    घरेलू नुस्‍खे एवं इलाज़


     तुलसी के पत्ते (Basil Leaves)






    तुलसी के पत्ते आपको तुरंत एसिडिटी, गैस और उल्टी से राहत दे सकते हैं। उपचार के लिए कुछ तुलसी के पत्ते चबा कर खाएं। इसके अलावा तुलसी के कुछ पत्ते पानी में उबालकर, उस पानी को छान लें। गुनगुना रहने पर शहद मिलाकर पिएं। यह भी एसिडिटी के लिए अच्छा उपाय है।

     छाछ (Buttermilk)

     छाछ पीने से भी एसिडिटी में बहुत राहत मिलती है। छाछ में पेट की अम्लता को संतुलित करने के लिए लैक्टिक एसिड होता है। उपचार के लिए मेथी के दानों को पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को एक गिलास छाछ में मिलाकर पिएं। इससे पेट का दर्द भी ठीक होगा और गैस से भी राहत मिलेगी। साथ ही, एसिडिटी भी खत्म होगी। स्वाद बढ़ाने और बेहतर परिणाम के लिए इस छाछ में काला नमक और काली मिर्च भी मिलाई जा सकती है।

     सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)




     सेब का सिरका भी एसिडिटी को ठीक करने का आसान तरीका है। उपचार के लिए एक कप पानी में दो चम्मच कच्चा सेब का सिरका मिलाकर दिन में दो बार पिएं। खाना खाने से पहले भी इसे पिया जा सकता है।

    जीरा (Cumin) 

    जीरा भी एक बेहतरीन एसिड न्यूट्रालाइजर (Acid Neutralizer) है जो एसिडिटी को कम करता है। इसके साथ ही पाचन शक्ति को बढ़ाकर पेट दर्द से भी राहत देता है। उपचार के लिए जीरा को भूनकर उसका पाउडर बनाएं। इस पाउडर को खाना खाने के बाद एक गिलास पानी में मिलाकर पिएं। जीरा पाउडर को छाछ में मिलाकर भी पिया जा सकता है।

     अदरक (Ginger) 

    अदरक में पेट की अम्लता से लड़ने के गुण होते हैं जो एसिडिटी से राहत देते हैं। उपचार के लिए खाने के बाद अदरक का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखकर चबाएं। या फिर एक कप पानी में अदरक को कुचलकर डालें और उबालें। इस पानी को छनकर पिएं।








    2 comments:

    1. this post is awesome thank you sir www.trick4inspire.blogspot.com

      ReplyDelete
    2. Thanks for sharing very useful post. Herbal remedies targets the root cause of the disease. It is formulated with natural ingredients. It has no ill health effects. visit http://www.hashmidawakhana.org/acidity-heratburn-natural-treatment.html

      ReplyDelete