• Latest Post

    जानिए, Pan Card से जुड़ी अहम बातें जिन्हें टैक्स डिपार्टमेंट नहीं बताता



    लोगों की वितीय लेन देन में पारदर्शिता और उन पर नजर बनायें रखने के लिए जरूरी माने जाने वाले पैन कार्ड में दर्ज 10 नंबर की काफी अहमियत होती है। ये दस नंबर आपके सरनेम के साथ साथ आपकी पूरी शख्सियत को बयां कर देते हैं। चलिए आपके पेन कार्ड से जुड़ी ऐसी खास बातें बताते हैं जिन्हें कभी टैक्स डिपार्टमेंट भी नहीं बताता है। अगर आप पेन कार्ड धारक है तो आप यह बात अच्छे से जानते होंगे कि आपके पेन कार्ड में आपकी जन्मतिथि के ठीक नीचे एक पर्मानेंट अकाउंट नंबर होता है। ये नंबर अंग्रेजी के बड़े अक्षरों से शुरू होते हैं और इसमें गणितीय संख्याएं भी शामिल होती हैं। ये नंबर किसी को भी यूं ही नहीं दे दिए जाते इसमें हर एक नंबर का खास मतलब होता है जो आपके सरनेम के साथ साथ आपकी पूरी कुंडली को बयां कर सकते हैं। तो जाने पेन कार्ड नंबर के हर डिजिट का क्या मतलब होता है। जाने पेन कार्ड के हर नंबर का मतलब आपको जानकर हैरानी होगी कि आपके पैनकार्ड का पांचवां नंबर आपका सरनेम भी बता देता है। पेन कार्ड में दर्ज नंबरों का यह मतलब होता है। पैन कार्ड नंबर के पहले तीन डिजिट अंग्रेजी लेटर होते हैं। ये AAA, ZZZ या कुछ भी हो सकते हैं। यह तीनों डिजिट कौन से होंगे इसे आयकर विभाग तय करता है। पैन कार्ड नंबर का चौथा डिजिट भी अंग्रेजी का होता है। यह धारक के स्टेटस को बताता है। जानिए किस लेटर का क्या मतलब होता है- P- एकल व्यक्ति F- फर्म C- कंपनी A- AOP ( एसोसिएशन ऑफ पर्सन) T- ट्रस्ट H- HUF (हिन्दू अनडिवाइडेड फैमिली) B- BOI (बॉडी ऑफ इंडिविजुअल) L- लोकल J- आर्टिफिशियल ज्युडिशियल पर्सन G- गवर्नमेंट पैन कार्ड नंबर में दर्ज पांचवां डिजिट भी एक अंग्रेजी का होता है। यह धारक के सरनेम (जाति) के हिसाब से तय होता है। पैन कार्ड के लिए कैसे करें आवेदन- अगर आप आयकर भुगतान के दायरे में आते हैं तो आपके लिए पैन कार्ड काफी जरूरी है। पैन कार्ड के लिए आपको 49 ए फॉम डाउनलोड करना होता है। इसे आप आयकर विभाग की वेबसाइट www.incometaxindia.gov.in से डाउनलोड कर सकते हैं। हालांकि यह फॉर्म आयकर पैन सेवा केंद्रों पर भी उपलब्ध होता है। आवेदन के बाद आपको एक नंबर थमा दिया जाता है। इसके जरिए आप यह पता कर सकते हैं कि आपके पैन कार्ड का स्टेटस क्या है। कहने का मतलब यह है कि आप इसके जरिए यह पता कर सकते हैं कि आपका पैन कार्ड बनने की किस प्रक्रिया से गुजर रहा है और आपको यह कितने दिन में मिल जाएगा। पैन कार्ड बनवाने में 150 से 200 रुपए तक का खर्च आता है। क्या हैं पैन कार्ड के फायदे- ऐसा नहीं है सिर्फ पैन कार्ड महज एक कार्डभर है। इसके कई फायदे भी होते हैं। जैसे कि आप इसके जरिए आयकर में होने वाली तमाम तरह की दिक्कतों से बच सकते हैं। आप इस कार्ड को किसी भी सरकारी संस्थान में अपने पहचान पत्र के रुप में भी पेश कर सकते हैं। कॉर्पोरेट ऑफिस से लेकर सरकारी दफ्तरों में भी काम आने वाला यह कार्ड देशभर में हर जगह मान्य होता है। सबसे अहम बात यह है कि अगर आप कई पर भी स्थाई जॉब के इतर काम करते हैं तो आप वित्तीय वर्ष के अंत में इसके जरिए अपना टीडीएस क्लेम कर सकते हैं।

    2 comments:

    1. Thank you for this information. Your Blog have so valuable information. Keep updating information like these. Also share a blog here on Know Your PAN by Name.

      ReplyDelete