• Latest Post

    राहुल द्रविड़ :- जिन्हें टीम इंडिया में श्रीमान भरोशेमंद के नाम से जाना जाता था जाने राहुल से जुड़े कुछ रोचक तथ्य।







    वर्ष 1996 की एक दोपहर थी। क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाला लॉर्डस का मैदान। करीब 23 साल का एक युवा हाथ में बल्ला थामे मैदान पर उतरता है और बस छोड़ देता है अपनी छाप। उसके बल्ले से निकला हर शॉट, गेंद के पीछे आकर खेलने की उसकी कला क्रिकेट की उस कलात्मकता और सौंदर्य को जीवंत कर देती है, जिसके लिए यह भद्रजनों का खेल जाना जाता रहा है। अपनी पहली ही पारी में 95 रनों की शानदार पारी। ये खिलाड़ी था आज की भारतीय टीम का श्रीमान भरोसेमंद राहुल द्रविड़। द्रविड़ भारत के ऐसे दुर्भाग्यशाली क्रिकेटरों में माने जाते हैं, जिन्हें अपनी प्रतिभा और मेहनत का समुचित पुरस्कार नहीं मिला, लेकिन वे अविचलित रहते हुए अपने मिशन पर लगे रहे और नींव के पत्थर की तरह टीम के स्तंभ बल्लेबाज बने रहे। लो प्रोफाइल शख्सियत और कम जुबान चलाने वाले इस इस शख्स के जीवन और खेल सफर से जुड़ी बातों को आइए जानते हैं। साथ ही परिचित होते हैं उन गुणों से जिन्होंने एक आम मध्यमवर्गीय महाराष्ट्रीय लड़के को टीम इंडिया के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज तक का सफर तय कराया।


    इंदौर की धरती पर हुआ जन्म
    राहुल द्रविड़ का जन्म 11 जनवरी 1973 को इंदौर, मध्य प्रदेश में, कर्नाटक में रहने वाले एक महाराष्ट्रीय ( मराठा) परिवार में हुआ। उनके पैतृक पूर्वज थंजावुर , तमिल नाडू के अय्यर थे। वे बेंगलोर कर्नाटक में बड़े हुए. वे मराठी और कन्नड़ बोलते है। विजय द्रविड़ उनके छोटे भाई हैं। दोनों भाई एक साधारण मध्यम वर्ग के माहौल में बड़े हुए। द्रविड़ के पिता शरद द्रविड़ जीई इलेक्ट्रिक के लिए काम करते थे, यह एक कम्पनी है जो जेम और अन्य संरक्षित खाद्य बनाने के लिए जानी जाती है, इसीलिए सेंट जोसेफ हाई स्कूल बेंगलोर में उनकी टीम के सदस्यों ने उन्हें उपनाम दे दिया जेमी। उनकी मां पुष्पा, बंगलौर विश्वविद्यालय में वास्तुकला की प्रोफेसर रही हैं। राहुल द्रविड़ ने 4 मई 2003 को कर्नाटक के सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ़ कोमर्स बेंगलोर से डिग्री प्राप्त की है। उनकी पत्नी डॉक्टर विजेता पेंधारकर एक सर्जन हैं, जिनसे उनके दो बेटे हैं।




    कामयाबी के चैप्टर
    द्रविडने 12 वर्ष की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया, और अंडर-15, अंडर-17 और अंडर-19 के स्तर पर उन्होंने राज्य का प्रतिनिधित्व किया। 1984 में के एस सी ऐ के चिन्नास्वामी स्टेडियम, बेंगलौर में उन्होंने एक ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण शिविर, में भाग लिया. जहां पूर्व क्रिकेटर केकी तारापोरे जो कोच में बदल गए थे, ने उनकी प्रतिभा को देखा। उन्होंने एक अनौपचारिक मैच में अपने स्कूल सेंट जोसेफ की टीम के लिए सेंट एंथोनी के खिलाफ अपना पहला शतक लगाया। बल्लेबाजी के साथ-साथ, वह विकेट कीपिंग भी कर रहे थे। केरला के खिलाफ कर्नाटक की स्कूल टीम के लिए दोहरा शतक लगाया। इसी वर्ष वे अंडर 15 कर्नाटक टीम के लिए चुने गए। बाद में उन्होंने पूर्व टेस्ट खिलाडिय़ों गुंडप्पा विश्वनाथ, रोजर बिन्नी, बृजेश पटेल और तारापोर की सलाह पर विकेट कीपिंग बंद कर दी। फरवरी 1991 में उन्हें पुणे में महाराष्ट्र के खिलाफ रणजी ट्रॉफी की शुरुआत करने के लिए चुना गया (अभी भी साथ साथ बेंगलोर में सेंट जोसेफ कोलेज ऑफ़ कामर्स में पढ़ रहे थे.) उनका पहला पूर्ण सत्र 1991-92 में था, जब उन्होंने 63.3 के औसत पर 380 रन बना कर 2 शतक बनाए और दिलीप ट्रॉफी में उन्हें दक्षिणी जोन के लिए चयनित किया गया।
    अंतर्राष्ट्रीय कैरियर के प्रमुख बिंदु
    द्रविड़ के कैरियर की शुरुआत एक निराशाजनक तरीके से हुई जब मार्च 1996 में विश्व कप के ठीक बाद सिंगापुर में सिंगर कप के लिए श्री लंका की क्रिकेट टीम के खिलाफ एक दिवसीय मैच खेलने के लिए उन्हें विनोद काम्बली की जगह लिया गया।
    1996 में उन्हें लॉर्ड्स, इंग्लेंड में टेस्ट कैरियर की शुरुआत का मौका मिला, जब संजय मांजरेकर घायल हो कर घर वापिस लौट गए और नवजोत सिंह सिद्धू का कप्तान अजहरुद्दीन के द्वारा 95 रन बना लेने के बाद उनसे झगडा हो गया। उन्होंने सौरव गांगुली के साथ इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में शुरुआत की, जब इसी दौरे में पहले टेस्ट मैच के बाद संजय मांजरेकर घायल हो गए। राहुल ने इस मैच में 95 का स्कोर बनाया।
    द्रविड़ ने अपना अच्छा प्रदर्शन 1996-97 में दक्षिण अफ्रीका के दौरे में भी बनाए रखा। उन्होंने जोहान्सबर्ग में तीसरे टेस्ट में तीसरे नंबर पर खेलते हुए 148 और 81 के साथ अपना मेडन शतक बनाया. प्रत्येक पारी में उनका स्कोर अधिकतम था जिसने उन्हें मेन ऑफ़ दी मेच का अवार्ड दिलाया,
    1996 में सहारा कप में पाकिस्तान के खिलाफ पहला अद्र्धशतक बनाया, इस मैच में उन्होंने अपने दसवें मेच में, 90 का स्कोर बनाया।1998 के मध्य में इन 18 महीनों की समाप्ति तक उन्होंने एक श्रृंखला वेस्ट इंडीज के खिलाफ खेली, एक श्रृंखला श्री लंका के खिलाफ खेली, और एक घरेलू श्रृंखला ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली, उन्होंने लगातार 56.7 के औसत पर 964 रन बनाए।
    1999 में न्यूजीलैण्ड के खिलाफ नव वर्ष के टेस्ट मेच में दोनों पारियों में शतक बनाने वाले तीसरे व्यक्ति बन गए, इससे पहले ये रिकॉर्ड विजय हजारे और सुनील गावस्कर ने बनाया था, उन्होंने 190 और 103 * रन बनाए। इसी वर्ष जिम्बाम्बवे के खिलाफ नाबाद 200 रन का स्कोर बनाया। यह दिल्ली में जिम्बाब्वे के खिलाफ उनका पहला दोहरा शतक था, और साथ ही दूसरी पारी में भी 70* रन बनाते हुए उन्होंने भारत को विजय प्राप्त करने में मदद की।




    2001 में कोलकाता में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन टेस्ट मैच की श्रृंखला के दूसरे टेस्ट में द्रविड़ ने वीवीएस लक्ष्मण के साथ मिलकर खेल के इतिहास में सबसे बड़ी जीत की वापसी की। इसे जारी रखते हुए, इस जोड़े ने मैच की दूसरी पारी में पांचवें विकेट के लिए 376 रन बनाए। द्रविड़ ने 180 का स्कोर बनाया जबकि लक्ष्मण ने 281 रन बनाए। हालांकि, द्रविड़ ने दूसरा सबसे अच्छा प्रदर्शन किया, यह उस दिन तक उनके सबसे अच्छे प्रदर्शनों में से एक रहा। इसी वर्ष में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पोर्ट एलिजाबेथ में उन्होंने दूसरी पारी में 87 रन बनाते हुए, दक्षिण अफ्रीका की जीत को हार में बदल दिया
    *2002 वह वर्ष था जब द्रविड़ ने तेंडुलकर की छाया से उभरना शुरू किया और अपने आप को भारत के प्रमुख टेस्ट बल्लेबाज के रूप में स्थापित कर लिया। उसी वर्ष में उन्होंने इंग्लैंड (3) और वेस्ट इंडीज (1) के खिलाफ लगातार चार शतक लगाए। अगस्त 2002, में, इंग्लैंड के खिलाफ हेडिंग्ले स्टेडियम, लीड्स में श्रृंखला के तीसरे मैच में पहली पारी में 148 का स्कोर बना कर उन्होंने भारत को प्रसिद्ध जीत दिलाई।
    *2003- 2004 के दौरे में, द्रविड़ ने तीन दोहरे शतक लगाये, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान प्रत्येक के खिलाफ एक-एक। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में चार मैच की श्रृंखला के दूसरे मैच में, द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण की बल्लेबाजी जोड़ी ऑस्ट्रेलिया पर भारी पड़ी, ऑस्ट्रेलिया के विशाल 556 के स्कोर के जवाब में भारत ने 4 विकेट पर केवल 85 रन बनाए थे जब इस जोड़ी ने 303 रन की साझेदारी की। द्रविड़ ने 233 रन बनाए, जो उस समय, यह विदेश में किसी भारतीय के द्वारा बनाया गया अधिकतम व्यक्तिगत स्कोर था। इस श्रृंखला में द्रविड़ ने 103.16 के औसत पर 619 रन का स्कोर बनाया और मैन ऑफ दी सीरीज का पुरस्कार जीता।
    *इस दौरे के बाद द्रविड़ ने गांगुली की अनुपस्थिति में, मुल्तान में पहले टेस्ट मैच में भारत को पकिस्तान पर विजय दिलाई। रावलपिंडी में इस श्रृंखला के तीसरे और फाइनल मैच में, द्रविड़ ने अद्वितीय 270 का स्कोर बना कर भारत को पकिस्तान पर एक ऐतिहासिक जीत दिलायी। इसके बाद भी वे ज्यादातर टेस्ट श्रृंखलाओं में भारत की कामयाबी के आधार रहे।
    * राहुल द्रविड़ ने 2006 में वेस्ट इंडीज में उन्हीं के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में ऐतिहासिक जीत दर्ज की। 1971 के बाद से, भारत ने वेस्ट इंडीज में कभी भी कोई टेस्ट श्रृंखला नहीं जीती थी। राहुल द्रविड़ पहले कप्तान हैं जिनके नेतृत्व में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को दक्षिण अफ्रीका की धरती पर टेस्ट मैच में हरा दिया। वे भारत से तीसरे कप्तान थे जिन्होंने इंग्लेंड में टेस्ट श्रृंखला जीती।
    *द्रविड़ एकदिवसीय मैचों में सबसे ज्यादा भागीदारी के दो मैचों में शामिल थे- सौरव गांगुली के साथ 318 रन का साझा, यह पहला जोड़ा था जिसने 300 रन की साझेदारी की और उसके बाद सचिन तेंदुलकर के साथ 331 रन की साझेदारी जो वर्तमान विश्व रिकॉर्ड है।




    * द्रविड़ तीसरे भारतीय (दुनिया में छठे) हैं जिन्होंने 10,000 से अधिक टेस्ट रन बनाये हैं। वे टेस्ट इतिहास में अधिकतम शतकों की साझेदारी में शामिल रहे हैं। वे एकमात्र खिलाडी हैं जिसने देश से बाहर टेस्ट खेलने वाले प्रत्येक राष्ट्र के खिलाफ शतक बनाया है। उन्होंने टेस्ट और एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय दोनों में 10,000 रन बनाये हैं, तेंडुलकर और लारा के बाद वे इस उपलब्धि को हासिल करने वाले तीसरे बल्लेबाज हैं।
    * एक गैर विकेटकीपर खिलाड़ी के रूप में वे टेस्ट में सर्वाधिक कैच लेने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने 154 मैचों में 203 कैच पकड़े हैं, जो एक विश्व रिकार्ड है। आस्ट्रेलिया के मार्क वा 181 कैच लेकर दूसरे नंबर पर हैं। अपने अंतर्राष्ट्रीय कैरियर में एक मात्र टेस्ट विकेट वेस्टइंडीज के रिडले जैकब्स का उन्होंने लिया है।
    द्रविड़ विश्व कप में
    7 वें विश्व कप(1999) में द्रविड़ ने 461 रन बनाते हुए अधिकतम रन बनाये थे. वे एकमात्र भारतीय हैं जिन्होंने विश्व कप में दो बेक टू बेक शतक बनाये. उन्होंने केन्या के खिलाफ 110 रन बनाये और इसके बाद टाउनटन में एक मेच में 145 रन बनाये. जहां बाद में उन्होंने विकेट कीपिंग की.
    2003 के विश्व कप के दौरान वे उपकप्तान रहे जिसमें भारत फाइनल तक पहुंचा, उन्होंने अपनी टीम के लिए दोहरी भूमिका निभाई एक बल्लेबाज की और एक विकेट कीपर की, एक अतिरिक्त बल्लेबाज का कम भी किया, भारत के लिए यह बहुत फायदे की बात थी.
    द्रविड़ वेस्ट इंडीज में 2007 के विश्व कप में कप्तान रहे जहां भारतीय क्रिकेट टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहा. द्रविड़ ने बांग्लादेश मैच में 14, बरमूडा मैच में 7* और श्री लंका मैच में 60 का स्कोर बनाया.
    * राहुल द्रविड़ मात्र दूसरे भारतीय हैं जिन्होंने एक विश्व कप में उच्चतम रन बनाये हैं.(पहले सचिन तेंडुलकर हैं - दो बार - 1996, 2003 ) उन्होंने अपने पहले विश्व कप, 1999 के विश्व कप में 461 रन बनाये.
    * 1999 के विश्व कप में वे 461 रनों के स्कोर के साथ रन बनाने में अग्रणी रहे हैं. एसी गिलक्रिस्ट (149) के बाद एक विश्व कप में एक विकेटकीपर द्वारा बनाया गया दूसरा सर्वोच्च स्कोर (145) द्रविड़ ने ही बनाया है. जिम्बाब्वे डेव होज्तोन के बाद वह एकमात्र दूसरे विकेटकीपर बल्लेबाज हैं जिन्होंने विश्व कप में एक एकदिवसीय सौ बनाये.* मार्क वॉ के बाद वे दूसरे बल्लेबाज हैं जिन्होंने विश्व कप में बैक टू बैक सौ बनाये.




    नजर आते हैं क्रिकेट की किताब
    द्रविड़ क्रिकेट की किताब को जीते नजर आते हैं। हर चीज परफेक्ट। फिर चाहे वो गेंद की पिच तक जाकर कवर ड्राइव खेलना हो या फिर कलाई के सहारे गेंद को ऑन साइड में मोडऩा। उनका हर शॉट, हर अंदाज क्रिकेट की किताब से निकला लगता है। बेहद सजीव और परफेक्ट। लेकिन, साथ ही उसमें नजर आती है अपनी स्वयं की मौलिकता। वे क्रिकेट की शास्त्रीयता को जीते हैं। उस रंग में सराबोर हैं द्रविड़, जिसके लिए क्रिकेट जाना जाता रहा है। किसी शास्त्रीय गायक या नृतक की तरह वे भी हर भाव-भंगिमा और कदम का पूरा हिसाब रखते हैं। सिर्फ रन बनाना ही उनकी कोशिश नहीं होती, उनकी कोशिश होती है कि रन सही अंदाज में भी बनें।
    हर काम में परफेक्शन की न सिर्फ चाह, बल्कि उसके लिए अपनी पूरी क्षमता झोंक देने का जज़्बा भी। टीम की जरूरत के लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार। जरूरत पड़ी तो पारी की शुरुआत भी की और अगर उसी जरूरत ने नंबर सात पर बल्लेबाजी करने को कहा, तो उसके लिए भी पूरी तरह से तत्पर रहे। टीम को दरकार हुई तो विकेट के पीछे दस्।ताने पहनकर भी खड़े होने में मिस्टर परफेक्शनिस्ट को कोई गुरेज नहीं रहा।
    शायद परफेक्शन की यह चाह बचपन से उनकी आदत में शुमार है। राहुल अपने नए तो नए बल्कि पुराने और मैले कपड़ों को भी अच्छे से तह करके लगाते। समय से मैदान में पहुंचना और जमकर मेहनत करना उनका नियम था। उनके कोच अन्य लड़कों को राहुल से सीख लेने को कहते। यही मेहनत करने का जज्बा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी नजर आता रहा है। वे ऐसे कुछ ही भारतियों में से एक हैं जो घर के बजाय बाहर अधिक औसत बनाते हैं, भारतीय पिच के मुकाबले में विदेशी पिच पर उनका औसत 10 रन अधिक का रहता है। 9 अगस्त, 2006 को विदेशी टेस्ट में द्रविड़ का औसत 65.28 रहा जबके उनका कुल औसत 55.4 था. और उनका एकदिवसीय के अलावा औसत 42.03 है जबकि एकदिवसीय का औसत 39.49 है।




    * द्रविड़ उन तीन बल्लेबाजों में से एक हैं जिन्होंने चार लगातार परियों में टेस्ट शतक लगाये। द्रविड़ ने तीन मैचों में इंग्लेंड के खिलाफ और एक मैच में वेस्ट इंडीज के खिलाफ क्रमश: 115, 148, 217, और 100* का स्कोर बना कर यह उपलब्धि हासिल की. केवल एवर्टन वीक्स ने लगातार पांच पारियों में शतक लगा कर शतकों का अधिक लम्बा क्रम बनाया है।
    * वे सुनील गावस्कर के बाद दूसरे भारतीय बल्लेबाज हैं जिन्होंने एक टेस्ट में दो बार जुड़वां शतक बनाया है। मात्र दो भारतीयों में से एक हैं जिन्होंने 5 डबल शतक बनाये। (प्रत्येक दोहरा शतक पिछले से अधिक है 200* जिम्बाब्वे के खिलाफ, 217 इंग्लेंड के खिलाफ, 222 न्यूजीलैंड के खिलाफ, 233 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, 270 पकिस्तान के खिलाफ)।
    * वे देश से बाहर भारत के लिए किसी भी विकेट के लिए सर्वोच्च साझेदारी में शामिल रहे हैं, ये साझेदारी 2006 में लाहौर में पकिस्तान के खिलाफ वीरेंद्र सहवाग के साथ बनाये गए, इस साझेदारी में 410 रन बनाये गए। केवल पंकज रॉय और वीनू मांकड़ ने भारत के लिए साझेदारी में अधिक रन बनाये हैं, उन्होंने चेन्नई में न्यूजीलैंड के खिलाफ 413 रन बनाये (6-11 जनवरी 1956)।
    पद्मश्री पुरस्कार से हो चुके सम्मानित
    अक्टूबर 2005 में वे भारतीय क्रिकेट टीम के कन के रूप में नियुक्त किये गए और सितम्बर 2007 में उन्होंने अपने इस पद से इस्तीफा दे दिया। द्रविड़ को वर्ष 2000 में पांच विसडेन क्रिकेटरों में से एक के रूप में सम्मानित किया गया। द्रविड़ को 2004 के उद्घाटन पुरस्कार समारोह में इस वर्ष के आईसीसी प्लेयर और वर्ष के टेस्ट प्लेयर के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 2004 में, द्रविड़ को भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया। 7 सितम्बर, 2004 को, उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद, आईसीसी द्वारा वर्ष के इनाग्रल खिलाडी और वर्ष के टेस्ट खिलाडी का पुरस्कार दिया गया।



    No comments