• Latest Post

    क्या है ? JEE और कैसे शामिल हों इंजीनियरिंग (Engineering) संस्थानों में इस परीक्षा के द्वारा






    जानिए जेईई (JEE) के बारे में और कैसे शामिल हों इंजीनियरिंग (Engineering) संस्थानों में इस परीक्षा के द्वारा


    कया है जेईई(JEE)?


    एआईईईई (AIEEE) की परीक्षा अप्रैल 2013 में Joint Enterence Examination(JEE) द्वारा बदल दिया गया था। JEE में दो प्रवेश परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं – जेईई मेन (JEE Main) और जेईई एडवांस्ड (JEE Advanced ) . संयुकत प्रवेश परीक्षा जेईई मेन (JEE Main) एनआईटी, आईआईआईटी और सीएफटीआईएस में इंजीनियरिंग प्रवेश के लिए सीबीएससी (CBSE) द्वारा आयोजित की जाती है। इस परीक्षा को पास करने के लिए दो पेपर होते हैं :- पेपर-1, पेपर -2

    पेपर -1 : बीई/बीटेक के लिए (BE / B.Tech)।

    पेपर -2 : बीआरक/ बी. प्लानिंग के लिए (B.Arch/ B.Planning)।

    जो विद्यार्थी जेईई मेन(JEE main) के पेपर-1 में पास हो जाते हैं। वो विद्यार्थी जेईई एडवांस (JEE Advanced) के पेपर के लिए योग्य हो जाते हैं।

    जेईई (मेन) के लिए योग्यता(Elegibility Criteria):


    1. जेईई में प्रदर्शित होने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 10+2 (कक्षा 12वीं) की अंतिम परीक्षा में पारित कर लिया गया हो या इसके समक्ष योग्यता परीक्षा के रूप में भेजा गया हो।

    2. जिन्होंने 10+2 (कक्षा 12वीं) की अंतिम परीक्षा उत्तीर्ण नहीं की हो या उत्तीर्ण करने से पहले भी वह जेईई मेन के लिए फार्म भर सकता है।

    3. इस विषय में दाखिला लेने के लिए B.E / B.Tech, B.Arch/ B.Planning में उत्तीर्ण होना बहुत जरुरी है और हम आपको एक टेबल के जरिए है इन विषयों के बारे में बता रहे हैं





    4. अभ्यार्थी केवल जेईई मेन की परीक्षा तीन बार दे सकता है।

    परीक्षा की सूची:


    ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि (इस तिथि से या इस तिथि बाद )******
    इस तिथि से ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।

    *ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि********

    * परीक्षा अप्रैल के अंतिम एतबार को आयोजित की जाएगी और परिणाम May के अंतिम हफ्ते में या जून के पहले हफ्ते में निकाला जाएगा।

    * उम्मीदवारों को अखिल भारतीय आधार और राज्य के आधार पर क्रमबंद किए जाएंगे।

    * इस प्रकार वे जो ऑल इंडिया रैंक (एआईआर) और स्टेट रैंक (एसआर) में होंगे।

    * आप जेईई (मेन)****

    *अगर पूरी ऑनलाइन आवेदन की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो लॉग ऑन करें।

    – http://jeemain.nic.in

    अधिक अधिक जानकारी के लिए इस लिंक को खोले।

    http://jeemain.nic.in/webinfo/pdf/JEE_Main_Bulletin%202015.pdf

    परीक्षा पैटर्न:-


    जेईई मुख्य पेपर एक ऑफलाइन और ऑनलाइन मोड दोनों में आयोजित किया जाता है। फार्म भरने से पहले और फार्म भरते समय उम्मीदवार को दोनों में से एक मोड का चयन करना जरूरी है। वह अपनी मर्जी से ऑफलाइन या ऑनलाइन दोनों में से किसी भी मोड़ का चयन कर सकता है। यह उम्मीदवार पर निर्भर करेगा कि वह कौन सा मोड चयन करता है।




    परीक्षा पैटर्न जेईई मेन -**** की मुख्य सूचि नीचे दी हुई है।

    *परीक्षा की अवधि : तीन घंटे।

    * पहले पेपर के वर्ग: फिजिकस, कैमिस्ट्री, गणित।

    * अधिकतम अंक: 360

    * कुल प्रश्न : 90

    * सही उत्तर के लिए अंक : +4

    * गलत उत्तर के लिए अंक : -1

    दूसरे पेपर के वर्ग : पीसीएम, ड्राईंग और एप्टीटयूट परीक्षण।

    सफलता के टिप्स :-


    1. गति और सटीकता एक महत्वपूर्ण पहलू है जो एक तरह के प्रश्नों को हल करने के व्यापक अभ्यास से आता है।

    २. विद्यार्थियों को (रूष्टक्तस्) बहुविकल्प प्रश्नों का अभ्यास करना चाहिए। तीन घंटे की अवधि में 90 प्रश्नों के उत्तर दे सके। अगर हम प्रति प्रश्न औसतन समय निकालें तो प्रति प्रश्न विद्यार्थी को दो मिनट का समय मिलता है।

    ३. हालांकि बहुत सारे प्रश्न होते हैं, जिनका उत्तर देने में अधिक समय लगता है। इसलिए यह आवश्यक है कि विद्यार्थी अपने लिए कुशल समय का प्रबंध करें, जो कि (रूष्टक्तस्) बहु विकल्प प्रश्नों के अभ्यास के साथ ही हासिल किया जा सकता है।




    ४. अध्ययन करने के लिए अच्छा सुझाव यह है कि प्रत्येक विषय के अध्ययन करने के लिए तीन घंटे का समय अवश्य दें।

    ५. हमेशा ही समय सुनिश्चित करके उस ही समय में प्रश्नों को हल करने की कोशिश करें। समय बचाने के लिए गणित में गणना करने के लिए कम विधियों का प्रयोग करें।

    ६. एआईईईई मुश्किल नहीं है पर हम इसे आसान भी नहीं कह सकते। हालांकि इसके प्रश्नों को हल करने के लिए एक तरीका होना चाहिए और एक सहीं ढंग से हल करने की तकनीक होनी चाहिए।

    ७. जब आप जेईई परीक्षा की तैयारी करें तो आप अपनी समस्याओं को सुलझाने की तरफ पूरा ध्यान लगाए।

    ८. आपकी गति और आपकी क्षमता दोनों निर्भर करती है। तुमे जरूरत है कि तुम जल्दी और सही के साथ एक अच्छे अंक प्राप्त कर सकें। जल्दी परीक्षा को और उसे सही से न करने से आप अपने परिणाम को कम कर सकते हैं, तो ऐसा न करें कभी भी।

    ९. कैल्कुलेटर का प्रयोग न करें जब आप जेईई की तैयारी कर रहे हो। अगर आप अपने दिमाग से खुद ही हिसाब करें इससे आप अपनी क्षमता को बढ़ा पाएंगे।

    १०. प्रश्नों के हिसाब से चले: अगर आप पहले आसान और औसत प्रश्नों को सही कर सकते हैं तो वहीं करें पहले मुश्किल प्रश्नों की वजह से ही तुम मैरिट में आ पाएंगे। मुश्किल प्रश्न ही मैरिट बनाते हैं।

    ११. उन विधियों का प्रयोग करें और उन्हें लागू करें, उससे आपको विश्वास, सकारात्मक महसूस होगी और तुम एआईईईई की परीक्षा को उत्तीर्ण कर पाएंगे।

    इस तरह से करें तैयारी अंतिम के 15 दिनों में।


    * आवश्यक या महत्वपूर्ण तथ्यों के नोट्स बना लें।

    * समयसारिणी बनाए अंतिम के 12 दिनों की सारे पाठ्यक्रम को दोहराने की।




    *समयसारिणी को इस तरह से बनाए की तुम अपने आप को थका हुआ महसूस न करें।

    एक उदाहरण है कि

    अगर आप फिजिकस में इलेकट्रोस्टैटिकस सही है और ये आपको अच्छे से समझ आता है तो आप इसे पहले दोहराए कयोंकि आप इसको जल्दी अच्छे से कम समय में कर पाएंगे।

    अगर आप आधुनिक भौतिक को पूरी तरह से नहीं पढ़ पाएं तो आप उन्हीं विषयों को दोहराएं जो आपने पढ़े हो। कुछ भी नया न पढ़े अंतिम सप्ताह में।

    *अगर सात दिनों के अंदर आप अपने पाठ्यक्रम को पूरा कर लें। नहीं तो अपने पाठ्यक्रम को एकबार पूरा दोहराएं।

    * आप कुछ डेमो परीक्षाएं भी दे अपनी गति और लिखने की गति और सही को देखने के लिए।

    * आप अपनी उन गलतियों को ढूंढे जो कि आपके समय को नष्ट करती हो। उन्हें होने से बचाएं और इसे करने से आप अपनी उन गलतियों को ढूंढ पाएंगे जो आपने अपने पिछले पेपर में की होगी और उन्हें करने से बचा पाएंगे।

    * इस तरह से आप एक अच्छी परीक्षा की तैयारी करने में सफल हो पाएंगे और अपनी जेईई मेन की भी अच्छी तैयारी हो जाएंगी, परंतु बहुत से छात्र डेमो परीक्षाएं नहीं देते पर अपने पूरे पाठ्यक्रम को दोहरा लेते हैं।

    * जोकि गलतियों का पात्र बन जाता है।



    No comments