Skip to main content

Period - मासिक चक्र लेट होने के कारण Period kyo late hota hai?



  1. अनियमित मासिक चक्र : जिन महिलाओं को अनियमित मासिक चक्र की समस्या रहती है, उन्हें अनियमित ओव्युलेशन का सामना करना पड़ता है। इस कारण उन्हें गर्भधारण करने में अधिक समस्या होती है। जो महिला जितना कम ओव्युलेट करेगी उसके गर्भवती होने की संभावना उतनी ही कम होगी
  1. एंडोमेट्रियोसिस : यह महिलाओं से संबंधी एक ऐसा विकार है, जो सीधे तौर पर उनकी प्रजनन क्षमता को बाधित करता है। कारण यह है कि इस समस्या में एंडोमेट्रियल कोशिकाएं (गर्भाशय की कोशिकाएं) गर्भाशय से बाहर की ओर बढ़ने लगती हैं, जो फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का कारण बनती है। इस कारण शुक्राणु और महिलाओं के सक्रिय अंडों का मिलन नहीं हो पाता। इस समस्या में महिलाओं को बार-बार पेशाब महसूस होना, संभोग के दौरान दर्द, मल त्याग में परेशानी जैसे लक्षण महसूस होते हैं 
  1. ओव्युलेशन की समस्या : कई महिलाओं में गर्भधारण न कर पाने का कारण ओव्युलेशन की समस्या होती है। माना जाता है कि कुछ खास आदतों, सर्जरी या फिर हार्मोनल समस्या की वजह से महिलाओं में ओव्युलेशन से संबंधित परेशानी पैदा होती है। जो पूर्ण रूप से बांझपन या गर्भधारण करने में मुश्किल का कारण बनती है 
  1. पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) : यह विकार महिलाओं में असंतुलित हार्मोन के कारण होता है। इस समस्या के कारण ओव्युलेशन की प्रक्रिया प्रभावित होती है। चूंकि ओव्युलेशन की प्रक्रिया गर्भधारण के लिए अत्यधिक जरूरी होती है। इस कारण पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम गर्भधारण में एक बड़ी बाधा का काम करता है
  1. फैलोपियन ट्यूब में रुकावट : फैलोपियन ट्यूब में रुकावट गर्भधारण न कर पाने का एक बड़ा कारण होता है। इस स्थिति में निषेचन की प्रक्रिया यानी सक्रीय अंडों का शुक्राणुओं से मिलन नहीं हो पाता। यह समस्या एंडोमेट्रियोसिस, संक्रमण या अनियमित मासिक चक्र के कारण प्रजनन अंग में आने वाली सूजन की वजह से पैदा हो सकती है 
  1. अंडे संबंधी परेशानी : गर्भधारण की प्रक्रिया अंडों की गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है। वहीं, महिलाओं में 35 से 40 की उम्र पार करने के बात अंडों की मात्रा और गुणवत्ता कम होने लगती हैं। वहीं, कुछ दैनिक आदतें और खानपान भी इस समस्या के लिए जिम्मेदार है। इस लिहाज से यह माना जा सकता है कि अगर अंडों की गुणवत्ता खराब होती है, तो इस कारण भी आपको मां बनने में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है 
  1. प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन की कमी : विशेषज्ञों के मुताबिक, महिलाओं में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन की कमी गर्भधारण की प्रक्रिया को प्रभावित करती है। कारण यह है कि प्रोजेस्ट्रोन ऐसा हार्मोन है, जो महिलाओं में ओव्युलेशन की प्रक्रिया के लिए जिम्मेदार होता है। वहीं, इसकी कमी महिलाओं में इस प्रक्रिया को धीमा करने का काम करती है। ऐसे में महिला गर्भधारण न कर पाने की जटिलता से झूझती है 
  1. सर्विकल म्यूकस की समस्या : सर्विकल म्यूकस एक चिपचिपा पदार्थ है, जो संभोग के दौरान महिला की योनी में बनता है। गर्भधारण कि प्रक्रिया में यह शुक्राणुओं को अंदर आने में मदद करता है, लेकिन संक्रमण के कारण म्यूकस गाढ़ा हो जाता है। इस कारण यह शुक्राणुओं को आगे बढ़ने से रोकता है और गर्भधारण करने में परेशानी होती है
  1. शुक्राणु संबंधी समस्याएं : गर्भधारण के लिए पुरुष के शुक्राणुओं की गुणवत्ता और मात्रा का होना भी अनिवार्य होता है। कुछ पुरुषों में शुक्राणु की मात्रा व गुणवत्ता कम होती है। ऐसे पुरुष को नपुंसकता की श्रेणी में गिना जाता है। इसका मुख्य कारण हार्मोन असंतुलन माना जाता है। ऐसी स्थिति में महिला साथी का गर्भधारण करना नामुमकिन होता है 
  1. थायराइड की समस्या : विशेषज्ञों के मुताबिक थायराइडकी समस्या के कारण भी महिलाओं को गर्भधारण करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। कारण यह है कि थायराइड की समस्या महिला में मासिक चक्र अनियमितता और ओव्युलेशन की प्रक्रिया को प्रभावित करती है, जो बांझपन के जोखिम कारक हैं। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि थायराइड से पीड़ित महिलाओं को गर्भवती होने के लिए अधिक जटिलताओं का सामना करना पड़ता है
  1. वीर्य नली में रुकावट : वीर्य नली में रुकावट भी गर्भधारण की समस्या का एक बड़ा कारण हो सकती है। दरअसल यह नली पुरुषों के वीर्य में शुक्राणुओं के मिलाने की प्रक्रिया का मुख्य स्रोत है। इसमें रुकावट आ जाने की स्थिति में वीर्य तो निकलता है, लेकिन उनमें शुक्राणु मौजूद नहीं होते। वहीं, गर्भधारण की प्रक्रिया महिला के सक्रीय अंडों और शुक्राणुओं के मिलन से ही पूर्ण होती है, इसलिए गर्भधारण न कर पाने का यह एक बड़ा कारण है। वीर्य नली में रुकावट के कई कारण हो सकते हैं जैसे – गोनोरिया और क्लेमाइडिया (पुरुष जननांग संबधी संक्रमण) या गुप्तांग में किसी प्रकार की अंदरुनी चोट के कारण

अन्य कारण

  • अस्पष्टीकृत बांझपन– यह ऐसी समस्या है, जिसमें महिला किसी भी प्रकार की कोई समस्या न होने के बावजूद गर्भधारण करने में असमर्थ रहती है। इस संबंध में की गई जांच में भी किसी पुख्ता समस्या का पता नहीं चला है। कुछ शोध में पाया गया है कि बांझपन की इस अवस्था से पीड़ित लोगों ने विशेषज्ञों के सुझावों के साथ गर्भधारण में सफलता हासिल की है 
  • संयोजन बांझपन- बांझपन की वह स्थिति जिसमें महिला और पुरुष दोनों बांझपन/नपुंसकता के विकार से ग्रस्त हों। ऐसे में गर्भधारण के लिए इलाज के दौरान दोनों साथियों को जांच की सलाह दी जाती है 

Comments

Popular posts from this blog

Tally सीखें हिंदी में।- Accounting क्या है, Accounting के महत्व,डेफिनेशन एवं प्रकार।

1. एकाउंटिंग क्या है ? 2. एकाउंटिंग के महत्व क्या है ? 3. एकाउंटिंग की डेफिनेसन ? 4. एकाउंटिंग के रूल्स और प्रकार  Accounting :-  एकाउंटिंग यह एक प्रोसेस है पहचान करने की, रिकॉर्डिंग, सारांश और आर्थिक जानकारी की रिपोर्टिंग की, जो निर्माताओं के लिए वित्तीय ब्यौरा देकर निर्णय लेन के लिए मददत करता है | Advantages of Accounting :- निमंलिखित एकाउंटिंग रखने से लाभ होता है - 1) एकाउंटिंग से हम किसी विशेष समय की अवधि में लाभ या हानि हुई है यह समझ सकते है। 2) हम कारोबार के निम्न वित्तीय स्थिति को समझ सकते है अ) व्यवसाय में है कितनी सम्पति है| ब) बिजनेस पर कितना ऋण है| ग) बिजनेस में कितनी किपटल है| 3) इसके अलावा, हम एकाउंटिंग रखने से बिजनेस के लाभ या हानि के कारण को समझ सकते है | ऊपर दिए गय फायदो से हमें आसानी से यह समझ में आता है की एकाउंटिंग बिजनेस की आम है| Defination :- एकाउंटिंग सीखते समय हम नियिमत रूप से कुछ शब्दों का प्रयोग करना पडता है। तो पहले हम इन शब्दों के अथ समझत है - 1) Goods :-  माल को बिजनेस में नियिमत और मुख्य रूप से खरीदा और बचा जाता है | उदाहरण के

Tally सीखें हिंदी में। - Tally में वाउचर एंट्री के टाइप देखना एवं वाउचर एंट्री करना।

1. वाउचर एंट्री के टाइप देखना 2. वाउचर एंट्री करना Voucher:  एक वाउचर एक दस्तावेज होता है, जो किसी वित्तीय ट्रांजेक्शन का विवरण होता है | मैन्युअल एंट्री में इस जर्नल एंट्री भी कहते है | वाउचर में सभी बिजनेस ट्रांजेक्शन पूर्ण विवरण के साथ रिकॉर्ड किया जाता है | Types of Voucher:  Tally.ERP 9 में पूर्व निधारित निम्नलिखित वाउचरके प्रकार है | 1) Contra (F4) :  यह प्रकार केवल बैंक अकाउंट और कैश ट्रांजेक्शन के लिए उपयोग होता है | उदाहरण के लिए आपने बैंक में कैश जमा किया या बैंक से कैश निकाला या फिर एक बैंक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसा ट्रान्सफर किया तो इन्हे Contra में लेना चाहिए| लेकिन बैंक से लोन लिया तो यह इस वाउचर टाइप में नही आएगा| Eg. 1) Open Bank Account in Bank of India with Rs. 5000 2) Withdrawn from Bank of India Rs. 2000 2) Payment (F5) :  यह प्रकार तब सिलेक्ट करे जब ट्रांजेक्शन कैश में हो| उदाहरण के लिये जब cash a/c या किसी बैंक अकाउंट से कैश से भगतान किया हो तो इस टाइप को सिलेक्ट करे| E.g. 1) Machinary Purchase for cash Rs. 20000 2) Salary Paid Rs. 300

मार्गदर्शन:- कैसे और कहाँ से करें Hotel Management की प्रवेश परीक्षा की तैयारी?

क्या है होटल मैनेजमेंट(Hotel Management) Hotel Management  दुनिया के सबसे बड़े रोजगारों में से एक है। कोर्स खत्म करने के बाद इसमें नौकरी के बहुत अवसर हैं , मैनेजर और कार्यकारी के रूप में। यह कार्यक्षेत्र में एक व्यवसायिक काम है। इसमें डेस्क, सर्विस, रसोई, कैटरिंग, बार और आस्पिटेलिटी की व्यवस्था शामिल है। बाबर्ची , खानपान(catering) में लोकप्रिय विशेषज्ञों में से एक है। इस कोर्स की समाप्ति के बाद विद्यार्थी होटल उद्योगों, क्रूजर शिप आदि में नियुकत किए जाते हैं और वे अपना व्यापार भी शुरू कर सकते हैं। Also Read~ ★ कैसे करें Fashion Designing की प्रवेश परीक्षा की तैयारी? ★ मार्गदर्शन:-कैसे करे एयरहोस्टेस की तैयारी। एयरहोस्टेस कैसे बने। होटल मैनेजमेंट में उपलबध कोर्स (Courses Offered by hotel management): ★   Wildlife Photography में बनाये कैरियर। कैसे और कहाँ से करें तैयारी। Bachelor of Arts in Hotel Management Bachelor of Hotel Management (BHM) Bachelor of Science in Hotel Management BA (Hons) in Hotel Management BBA in Hotel Management Master of Science in